30 सितम्बर -2014

नवमी की पूजा के लिए विशेष!

Navmi pooja khana

इस वर्ष नवमी का त्यौहार 3 अक्तूबर को है. कुछ लोग आठ दिन के उपवास के बाद नवें दिन नौ कन्याओं को खाना खिलाने के बाद नवमी को उपवास खोलते हैं. वही कुछ लोग पड़वा और अष्टमी का व्रत रखते हैं और फिर नवमी को कन्या खिलाते हैं. आठ दिन के उपवास के बाद नवमी की पूजा में किसी भी और पूजा की तरह, बहुत पारंपरिक खाना बनता है और प्याज और लहसुन का प्रयोग नहीं किया जाता है. आमतौर पर भोग के लिए और कन्या को खिलाने के लिए हलवा पूड़ी बनती है जिसे प्रसाद के तौर पर पास पड़ोस में भी बाटा जाता है. पूजा के खाने के और व्यंजनों के बारे में यहाँ पढ़ें.

नवमी की सभी पाठको को हार्दिक शुभकामनाएँ,
शुचि


शरद नवरात्रि !!

See this page in English

प्रिय पाठकों, शरद नवरात्रि हिन्दी पंचांग के अनुसार अश्विन (क्वार) महीने में होती है. नवरात्रि 9 दिनों तक चलने वाला त्यौहार है . यह नौ दिन बहुत पवित्र माने जाते हैं और इन दिनों पूजा अर्चना और व्रत उपवास रहने की परंपरा रही है. कुछ लोग जहाँ आठ दिन के उपवास के बाद नवें दिन नौ कन्याओं को खाना खिलाने के बाद नवमी को उपवास खोलते हैं. वही कुछ लोग पड़वा और अष्टमी का व्रत रखते हैं और फिर नवमी को कन्या खिलाते हैं. इस वर्ष नवरात्रि शनिवार, 21 सितम्बर से शुरू हो रही है और इस महीने में पड़ने वाले कुछ और त्यौहार इस प्रकार हैं....

शरद नवरात्रि की पड़वा- 21 सितम्बर
अष्टमी- 2 अक्तूबर
नवमी- 3 अक्तूबर
विजय दशमी/ दशहरा- 3 अक्तूबर

संपूर्ण भारतवर्ष में शरद नवरात्रि की अपनी ही महत्ता है. भारतवर्ष में इस अवसर पर खूब धूम होती है . कहीं देवी जागरण तो, कहीं दुर्गा पूजा के पंडाल, कहीं डांडिया, कहीं रास, कहीं गरबा और वहीं कुछ जगहों पर रामलीला के सजे मंच...शरद नवरात्रि कुछ ख़ास इसलिए भी होती है क्योंकि नवमी के बाद आता है विजयदशमी का पर्व....

इस शुभ मौके पर कुछ नये और कुछ पारंपरिक फलाहारी व्यंजन .....


नाना प्रकार का फलाहारी खाना/ फलाहारी दावत- भुनी मूँगफली और मखाने, मखाने की खीर, साबूदाने का पुलाव, दही, सिंघाड़े की नमकीन बरफी, कूटू के पकौड़े, और फलाहारी चटनी.

vratkithali


नवरात्रि की शुभकामनाओं के साथ,
शुचि

Almond Kheer बादाम की खीर -बादाम की खीर आप उपवास में भी खा सकते हैं. बादाम विटामिन और खनिज से भरपूर होते हैं और इन्हे सेहत का खजाना माना जाता है. कहते हैं सुबह निन्ने मुहँ ४ बादाम खाने से स्वास्थ्य बहुत अच्छा रहता है. मैने इस खीर में बादाम को छिलके के साथ ही पीसा है क्योंकि बादाम के छिलकों में भी बहुत खनिज होते है....यह खीर बड़ी मजेदार होती है, और बच्चों को भी बेहद पसंद आती है.
सिंघाड़े के चीले सिंघाड़े के चीले - सिंघाड़े में कार्बोहाइड्रेट, स्टार्च, विटामिन बी -6, रिबॉफ्लेविन आदि प्रचुर मात्रा में होता है. यह कच्चा भी खाया जाता है, और उबाल कर भी. सिंघाड़े के व्यंजन उपवास के दिनों में भी बनाए जाते हैं. शरद नवरात्रि के समय भारत में सिंघाड़े बहुतायत में आते हैं. वैसे सिंघाड़े का आटा पुर साल आसानी से मिल जाता है, अगर आपको सिंघाड़े का आटा ना मिले तो आप कूटू के आटे का प्रयोग भी कर सकते हैं इन चीलों को बनाने के लिए...
dahi ke aloo

दही के आलू - दही कैल्शियम का अच्छा स्रोत है. इसमे प्रोटीन भी प्रचुर मात्रा में होती है. उपवास के दिनों में अधिकतर परिवारों में दही खाया जाता है. स्वादिष्ट दही के आलू व्रत में बहुत अच्छे लगते हैं. कुटु और सिंघाड़े के व्यंजन गर्म तासीर के होते हैं, इसीलिए इन्हें दही के व्यंजनों के साथ परोसा जाता है. एक बहुत ही आसान सी विधि दही के फलाहारी आलू बनाने की...


कुछ और व्रत के व्यंजन

Kuttu Ki Poori sabudana pulav cucumber potato salad