19 मार्च -2017

भुना और पिसा जीरा !

  • भुना और पिसा जीरा

    जीरा -जीरा हर भारतीय रसोई में मिलने वाला एक ज़रूरी मसाला है. जीरे का उपयोग दालों, करी , अचारों इत्यादि में होता है. भुने जीरे का प्रयोग भी भारतीय खाने में बहुतायत में होता है. जीरे को भून कर और पीस कर दही के व्यंजनों , देसी पेय, चटनी, गलका, चाट इत्यादि में भी डालते हैं. आप जीरे को भून और पीस कर एयरटाइट डिब्बे में रख सकते हैं जिससे इसका इस्तेमाल आसान हो जाता है. वैसे मेरी दादी माँ ज़रूर पड़ने पर तुरंत ही रोटी सेकने के बाद ....आगे पढ़ें..


अरबी की सूखी सब्जी !

  • अरबी की सूखी सब्जी

    अरबी जिसे कुछ लोग घुइया के नाम से भी जानते हैं एक गर्मी के मौसम की सब्जी है. शकर्कंडी, और आलू के जैसे अरबी के भी ट्यूबर खाए जाते हैं. वैसे अरबी के पत्तों भी खाने में इस्तेमाल किए जाते हैं और इनसे कई स्वादिष्ट व्यंजन बनते हैं जैसे उत्तर भारत में अरबी के पत्तों के पकौड़े और पासचिं में पात्रा. अरबी में कारबोहाइड्रेट, कई प्रकार के विटमिन्स और फॉलिक एसिड बहुतायत में होते हैं. इसमें कई प्रकार के खनिज भी पाए जाते हैं. अरबी आमतौर पर अजवाइन में बनाई जाती है ...आगे पढ़ें..


वेज चाउमीन लंच बॉक्स के लिए

  • वेज चाउमीन लंच बॉक्स के लिए

    चाउमीन सभी को पसंद आता है और ख़ासतौर पर बच्चों को तो बहुत ही पसंद होता है. आप वेज चाउमीन में खूब सारी सब्जियाँ डाल कर इसमें स्वाद के साथ साथ पौष्टिकता भी बढ़ा सकते हैं. आप अपने बच्चे के स्वाद के अनुसार कुछ फल और मीठा भी रख सकते हैं लंच में. हमने नीचे लगी फोटो में वेज चाउमीन के साथ संतरे, भूनी मूँगफली और अखरोट और खजूर की बरफी भी पैक करी है..आगे पढ़ें..

लंच बॉक्स के लिए हरियाली सैंडविच

  • लंच बॉक्स के लिए हरियाली सैंडविच

    बच्चों के लंच बॉक्स के लिए यह हरियाली सैंडविच बहुत अच्छी रहती हैं. हमारी बिटिया रानी को यह सैंडविच बेहद पसंद हैं और वो रोजाना यह सैंडविच ले जाने को तैयार रहती हैं. आप इस सैंडविच के साथ कोई फल और कुछ मीठा भी रख सकते हैं बच्चों के लंच बैग में. हमने यहाँ सैंडविच के साथ स्ट्रॉबेरी, आटे का लड्डू और कुछ बादाम और सूखे अंजीर रखे हैं लंच बॉक्स में. लीजिए चटपट पौष्टिक और संतुलित लंच बॉक्स तैयार हो गया...आगे पढ़ें..

कुछ और लंच बॉक्स के लिए खाने के आइडिया


शुचि की रसोई से ई-मेल प्राप्त करने के लिए क्लिक करें !!

मूँग की दाल का हलवा

  • मूँग की दाल का हलवा

    मूँग की दाल का हलवा बहुत ही पारंपरिक मिठाई है. जाड़े के मौसम में भारत में तीज त्यौहार, शादियों आदि में मूँग दाल हलवा बहुत चाव से बनता है. वैसे तो यह हलवा बहुत स्वादिष्ट होता है लेकिन इसमें खालिस घी भी जमकर पड़ता है. हमने यहाँ एक आसान विधि बताई है हलवा बनाने की. इसमें गीली दाल की जगह हमने सूखी मूँग दाल को पीसा है जिसे भूनना आसान होता है और घी भी कम लगता है. मैने एक कप मूँग दाल का हलवा बनाया है जो कि चार लोगों से ज़्यादा होता है....आगे पढ़ें..


इतालवी व्यंजन फोकाच्या ब्रेड बनाने की विधि!!

  • focaccia bread

    फोकाच्या ब्रेड (F0caccia Bread)

    फोकाच्या ब्रेड जिसे कुछ लोग फोकेशिया ब्रेड के नाम से भी जानते हैं, यह एक बहुत ही पसंद की जाने वाली इतालवी ब्रेड है. आपने कई बार इतालवी रेस्टोरेंट में इस ब्रेड को खाया होगा. इस ब्रेड को कई इतालवी रेस्टोरेंट जैतून के तेल के साथ आपके स्वागत में परोसते हैं. वैसे यह ब्रेड सूप और सलाद के साथ भी परोसी जाती है. अगर आपके शार में अंतरराष्ट्रीय बेकरी है तो आपने उसमें भी इस ब्रेड को देखा होगा. वैसे फोकाच्या ब्रेड को घर पर बनाना भी बहुत आसान है. आप इस ब्रेड को कई स्वाद में बना सकते हैं. हम आज यहाँ पर आपको एक बेसिक फोकाच्या ब्रेड बनाने की विधि बता रहे हैं. आशा है यह विधि आपको पसंद आए और आप इस...... आगे पढ़ें..

नयी फलाहारी व्यंजन विधि- कच्चे केले की टिक्की

2 अक्तूबर -2016

  •  कच्चे केले की टिक्की

    कच्चे केले की टिक्की

    कच्चे केले में कार्बोहाइड्रेट, रेशे, विटामिन सी एवम् विटामिन बी6 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. केले में पोटैशियम भी बहुतायत में पाया जाता है. कच्चे केले में पके केले के मुक़ाबले में बहुत कम शर्करा होती है. केले आमतौर पर सभी व्रतों में खाए जाते हैं. कच्चे केले से बने यह फलाहारी टिक्की स्वाद में तो लाजवाब हैं ही सेहत के लिए भी सही हैं. आप इन टिक्की को बहुत कम चिकनाई लगाकर तवे पर सेक सकते हैं. आगे पढ़ें..

शुचि की रसोई से ई-मेल प्राप्त करने के लिए क्लिक करें !!

नयी विधि- गोभी मटर आलू

14 सितंबर-2016

  • गोभी मटर आलू

    गोभी आलू की सब्जी ना केवल भारत वर्ष बल्कि बाहर के देशों में भी बहुत प्रसिद्ध है. इस सब्जी को बनाना भी बहुत आसान होता है. जाड़े के दिनों में जब भारत में ताजी गोभी आती हैं तो गोभी आलू की सब्जी बनाने पर उसकी खुश्बू पड़ोस तक जाती है. गोभी मटर आलू की ख़ासियत यह है कि एक तरफ यह रोजाना में दाल-चावल और रोटी के साथ बहुत अच्छी लगती है वहीं यह पार्टी के खाने नान दाल मखानी आदि के साथ भी बहुत स्वादिष्ट लगती है.आगे पढ़ें..

नयी विधि- लोबिया के कबाब!

8 सितंबर-2016

  • लोबिया के कबाब

    शाकाहारी कबाब कई तरह के होते हैं, जैसे की, अरबी के कबाब, कच्चे केले के कबाब, पपीते के कबाब इत्यादि. यह विधि लोबिया के कबाब की है जो बनाने में तो आसान हैं ही खाने में भी बहुत स्वादिष्ट होते हैं. लोबिया पोटेशियम का एक अच्छा स्रोत है, और साथ ही साथ इसमें मैग्नीशियम और कैल्शियम भी होता है. लोबिया में और दालों के मुक़ाबले में फाइबर की मात्रा ज़्यादा होती है, और यह प्रोटीन का भी बहुत अच्छा स्रोत है. आगे पढ़ें..

नयी विधि- बैंगन का भरता !

31 अगस्त-2016

  • बैंगन भरता

    बैंगन का भरता

    बैगन का भरता उत्तर भारत का एक बहुत ही मशहूर व्यंजन है. बैंगन के भरते में बैगन को आँच पर भूनकर फिर उसे प्याज, टमाटर और मसालों के साथ पकाया जाता है. बैंगन के भरते को आप दाल चावल से लेकर किसी भी प्रकार के पूरी, पराठे और रोटी के साथ परोसा जा सकता है. वैसे तो बैंगन को आंच पर भूनते हैं लेकिन अगर आप के पास गैस का चूल्हा नही है तो आप इसे ओवेन या फिर तंदूर में भी भून सकते है.आगे पढ़ें..

नयी विधि- अदरक की चाय!

10 मई-2016

  • अदरक की चाय

    चाय भारतवर्ष में बनने वाले सभी गरम पेय में सबसे ज़्यादा प्रसिद है. वैसे तो भारत में पेय मौसम के अनुरूप होते हैं जैसे गर्मी के मौसम में ठंडा ठंडा आम का पना, नीबू की शिकंजी, मट्ठा, इत्यादि और जाड़े के मौसम में कड़ाई में पका दूध...लेकिन चाय तो सदाबहार है और इसे मौसम की सीमा में नही बाँधा जा सकता है. एक अदरक की चाय सारे दिन की थकान उतर देती है. चाय की पहचान तो अब विदेशों में भी चाय के नाम से ही होती है. यहाँ अमेरिका में भी चाय, चाय के नाम से ही जानी है हालाँकि उस चाय को पीकर तृप्ति नहीं होती है.. आगे पढ़ें..

मेथी को घर पर उगाने की विधि!!

30 अप्रैल-2016

  • मेथी को घर पर उगाने की विधि

    मेथी को आसानी से घर की बगिया में भी उगाया जा सकता है. बल्कि मेरा अनुभव है की मेथी किसी भी और सब्जी के मुकाबले ज्यादा आसानी से बढती है. मेथी को आप रसोई में इस्तेमाल होने वाले मेथीदाने यानि की मसाले वाले सूखे मेथी के बीज मेथी को आप बगीचे में या फिर गमले में किसी भी चीज में उगाये यह बहुत जल्दी अंकुरित होती है.और पढ़ें...



Your Valuable Comments !!